जल्दी वजन कैसे बढ़ाएं


पतलापन अर्थात दुबलापन वैसे कोई बड़ी समस्या नहीं है। यह प्राय: पाचन तंत्र में खराबी होने के कारण होता है। इसे लोग सामाजिक दृष्टि से बुरा मानते है जिससे दुबले लोगों में हीन भावना पनपनें लगती है और वह गलत रास्ते का चुनाव कर लेते है। साइड इफेक्ट वाली गोलियों का सेवन करने लगते है जो कि शरीर को तो फुलाकर वजन तो बढा देते है लेकिन जब इनका सेवन बंद कर दिया तो पुन: वजन पहले जैसा हो जाता है। आज हम कुछ ऐसे उपाय लेकर आयें है जिनकी मदद से न सिर्फ आपका वजन बढेगा बल्कि आत्मविश्वास भी मजबूत होगा।

वजन बढाने के उपाय-


आज के समय में जितने लोग मोटापा से पीडित है उससे कही अधिक दुबलापन से। दुबलापन वैसे कोई बिमारी नहीं है यह सिर्फ खाने में ध्यान न देने के कारण होती है। खाने मे ध्यान न देने का मतलब समय से भोजन न खाना या उचित मात्रा में कैलोरी का न लेना शामिल है। आपने कई ऐसे लडके और लडकियो को देखा भी होगा कि उनके शरीर का ढांचा लकडी के जैसे दिखाई देता है। उनके शरीर पर रगडो तो हड्डी रगडेगी। ऐसे व्यक्ति को समाज में निंदा की दृष्टि से देखा जाता है। जब बार बार लोग उनकी निंदा करने लगते है तो उनके अंदर हीन भावना जगने लगती है।

आयुर्वेद के अनुसार ज्यादा दुबलापन तथा मोटापा खराब माना जाता है। दुबले शरीर वाले व्यक्ति की पेट की ग्रीवा ठंडी रहती है और उनके शरीर की नसे तथा हड्डियां साफ साफ दिखाई देती है। ऐसे लोग ठोडा सा काम करके ही थक जाते है।

दुबलापन के कुप्रभाव-


दुबलापन होने से पीडित व्यक्ति के अंदर हीन भावना जन्म लेने लगती है जिससे शारीरिक तथा मानसिक क्षति मिलती है। ऐसे व्यक्ति समाज से दूरी बनाने लगते है और ज्यादा पार्टी तथा विवाह जाने से कतराने लगते है। ऐसे लोग अपने मन मुताबिक कपडे नहीं पहन पाते है क्योंकि इनके साइज के कपड़े ज्यादा नहीं मिल पाते है। इससे पीडित व्यक्ति में टेंशन तथा तनाव बहुत रहता है तथा ऐसे लोग समाज से कटने लगते है जिसके फलस्वरुप वे अंतर्मुखी हो जाते है। दुबलापन से personality पर भी bad effect पडता है जो कि बहुत बडा side effect है। ऐसे लोगों का confidence भी weak होता है जिससे वह सही निर्णय नहीं ले पाता है।

दुबलापन होने के कारण -


दुबलापन होने के कई कारण है जिनमें से हम मुख्य कारणों का वर्णन ही करेंगे।
अनुवांशिकता के कारण व्यक्ति दुबला हो सकता है और पौष्टिक आहार न लेने के कारण भी दुबलापन का शिकार हो सकता है।
कम शारीरिक श्रम के कारण भी दुबलापन आ जाता है और यह शारीरिक श्रम के अनुसार भोजन न करने से भी हो सकता है।
पाचन का ठीक होना भी इसका एक अहम कारण है। ऐसे लोगों को जल्दी भोजन नहीं पचता है और वे बदहजमी तथा कब्ज के शिकार होते है।
खाने में अरुचि होने के कारण भी ऐसे लोग कमजोर होते है क्योंकि वे इतना भोजन नहीं कर पाते है जितने की उसे आवश्यकता होती है।
टेंसन तथा चिंता के कारण भी ऐसे व्यक्ति इसका शिकार होते है क्योंकि टेंशन इनके शरीर को अंदर से खोखला बना देती है।
हार्मोंस में गडबडी होने के कारण भी यह रोग होता है।  अधिक व्यायाम करने पर भी दुबलापन हो सकता है और बिल्कुल भी Exercise न करना भी इसका अहम कारण हो सकता है।
समय से भोजन न करने पर भी कम वजन हो सकता है।
आंत में कीडे का होना भी इसका होना मुख्य कारण है। Metabolism में कमी होने के कारण भी यह रोग हो सकता है। ऐसे लोगों का metabolism इतना high होता है कि इनका भोजन तुरन्त energy में convert हो जाता है जिससे उनकी body में fat नहीं बन पाता है और वह दुबले रह जाते है।

वजन बढाने के लिए आसान तरीके -


वजन बढाना वैसे कोई मुश्किल काम नहीं है। यदि आप भरपूर मात्रा में शारीरिक आवश्यकता के अनुसार भोजन करते है तो आपको वजन बढाने से कोई नहीं रोक सकता है। जितना अधिक भोजन करेंगे उतना ही अधिक फैट बनेगा और आप मोटे होने लगेगे। यदि भोजन अधिक कैलोरी का किया जाये तो और अच्छा है। चलिए वजन बढाने के कुछ और उपाय जानते है-

1- भरपूर मात्रा में नींद ले -


नींद हमारे शरीर की आवश्यकता होती है। यह शरीर के लिए उतना ही जरुरी है जितना कि Body के लिए आॅक्सीजन। हर स्वस्थ मनुष्य को 8 घंटे की गहरी नींद अवश्य लेना चाहिए जिससे नयी कोशिकाओ का निर्माण होता है। अच्छी नींद लेने के लिए रात को जल्दी सो जाना चाहिए। यदि जल्दी समय न मिले रात 10 बजे तो अवश्य सो जाना चाहिए। इससे गहरी नींद आती है।

2- Exercise अवश्य करे-


excercise शरीर का अभिन्न अंग होता है। इसे हर व्यक्ति को अवश्य करना चाहिए। यह न सिर्फ शरीर को बलवान बनाता है बल्कि शरीर का पाचन भी बढता है तथा भूख खूब लगती है। इसे करने से पेट मे चर्बी नहीं हो पाती है और यदि है भी तो वह पूरे शरीर में बंट जाती है। व्यायाम कैलोरी को बर्न करने में मदद करता है तथा शरीर में फालतू चर्बी जमा नहीं हो पाती है।



वजन बढाने के आयुर्वेदिक तथा घरेलू नुस्खे -




1. दूध में 4-5 बादाम को अंजीर के साथ उबालकर पीयें। यह आप सुबह खाने के बाद पी सकते है जो वजन बढाने के साथ हाजमा भी सही करता है। इसके नियमित सेवन से कुछ ही दिनों में फर्क महसूस होने लगेगा। आप खुद ही महसूस करेंगे की वजन बढ रहा है।



2. उबले आलू रोज खायें। आलू में प्रचुर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट तथा वजन बढाने वाले तत्व होते है जिसे आप उबालकर खा सकते है। हर एक घंटे में इसका सेवन करें तथा इसके बाद हो सके तो आलू से बचे पानी को भी  पी लें।


3. हरी सब्जियों तथा फलों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन तथा मिनरल्स होते जिनसे आप अपना वजन बढा सकते है। गुरुकुलों में पढने वाले बच्चों को पेटभर फल ही खिलाया जाता है जिससे उनका शरीर बिल्कुल फिट रहता है।




4.अंडों में प्रोटीन तथा कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है जो हड्डी को मजबूत बनाता है तथा शरीर में वसा की मात्रा को भी बढाता है जो कि वज़न बढाने में आपकी हेल्प करेगा। इसलिए रोज दूध के साथ दो अंडे जरूर खायें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ