अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस - International Women’s Day 2019 In Hindi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) हर वर्ष 8 मार्च को मनाया जाता है। यह महिलाओं के सम्मान में त्योहार के रूप में मनाया जाता है। यह दिन किसी क्षेत्र पर काम कर रही महिला के  लिए किसी सम्मान से कम नहीं है।
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस : International Women’s Day 2019

इस मौके का इजहार गूगल ने डूडल बनाकर किया है जिसमें 10 स्लाोइड ईमेज दिखाई देती है। जिसमें नारी के सम्मान की चीजे लिखी हुई है। इसके बाद उसमें सर्च करने का ऑप्सन आता है जिससे उससे सम्बन्धित सभी पोस्ट दिखाई देती है।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास - International woman's day In Hindi


हम सब जानते है कि आज के युग की महिलायें किसी परिचय की मोहताज नहीं है। वह अपने काम की वजह से समाज में एक विशेष स्थान पाये हुए है। इनमें से प्रतिभा पाटिल, किरण वेदी, मायावती, सानिया मिर्जा, पीबी सिंधू आदि शामिल है जिन्होंने खुद अपने दम पर सफलता की शिखर पर चढी है।

आजकल सभी महिलाओं को सभी कार्य तथा पदो के लिए स्वतंत्रता प्राप्त है। लेकिन 1909 से पहले ऐसा कुछ नहीं था। कई देशों में महिलाओं को वोट करने तक का अधिकार नहीं था। सबसे पहले महिला दिवस अमेरिका में 28 सितम्बर को मनाया गया था। सन 1910 में सोशलिस्ट इंटरनेशनल कोपेनहेगन सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें महिला दिवस को इंटरनेशनल महिला दिवस का दर्जा दिया गया।

इस दिवस को तब पॉपुलर्टी मिली जब रूस की महिलाओं ने वहां के जार के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया था। यह आंदोलन इतना बलवती हो गया था कि वहां के राजा या जार को राजगद्दी तक छोड़नी पड़ी थी। यह आंदोलन 1917 में हुआ था। इस समय यहां महिलाओं को वोट तक करने का अधिकार नहीं था लेकिन जब नया जार बना तो उन्हें वोट करने का परमीसन दे दिया था।

Related- वूमेन डे स्पेशल : महान गणितज्ञ महिला की जीवन गाथा

जब रूस में 28 फरवरी था तब दूसरे देशों में 8 मार्च था क्योंकि यहॉ पहले दूसरा कैलेंडर था बाद में यहां का कैलेंडर बदल दिया गया था। इसलिए पूरा विश्व 8 मार्च को इंटरनेशनल महिला दिवस के रूप में मनाता है।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की नारी शक्तियों का परिचय -

पूरे विश्व में नारियों ने हर क्षेत्र पर विजय पाकर यह कहने पर मजबूर कर दिया है अर्थात यह साबित कर दिया कि एक नारी यदि कुछ करने की ठान ले तो वह करके ही रहेगी। उनमें अपरिमित शक्ति है और कुछ कर पाने का जुनून है।

पहले महिलायें देश की सुरक्षा में नहीं थी लेकिन कई महिलायें इस क्षेत्र पर आयी और अपनी शक्ति दिखाई। इसमें से शुभांगी स्वरूप उत्तरप्रदेश की पहली नेवी कमांडर थी। अब शायद ही कोई ऐसा काम होगा जिसे किसी महिला ने न किया हो।

आपने टेसी थॉमस का नाम तो सुना ही होगा? इन्हें मिसाइल वूमैन या अग्ऩि पुत्री के नाम से जाना जाता है। यह पहली भारतीय वूमैन थी जिन्होंने 5000 मारक क्षमता वाली मिसाइल बनायी थी। इस मिसाइल का नाम अग्नि 5 है। इन्होंने कई वर्षो तक अपने देश के लिए काम किया है। पहले यह कार्य सिर्फ पुरुष ही कर पाते थे लेकिन उनके हौसले ने यह बुलंदी हासिल कर ली। और यह रिकार्ड अपने नाम कर लिया।

किरण बेदी सबसे पहली महिला आईपीएस अधिकारी है। इन्हें अपने पद पर कुशलता से काम के लिए जाना जाता है। इन्होंने कई खूफियॉ मिशन पर भी काम किया है। इन्हे सर्वश्रेष्ठ महिला का खिताब भी मिल चुका है। यह कई सामाजिक संस्थायें भी चलाती है। इन्हें शौर्य पुरूस्कार तथा रमन मैग्नसे पुरुष्कार भी मिल चुका है।

यह नव ज्योति संस्था भी चलाती है जिसमें नशा मुक्ति का ईलाज कराया जाता है।

इसी तरह कई महिलाओं ने यह कर दिखाया है कि उनमें नारी शक्ति का भंडार है। आप सभी को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2019 की हार्दिक शुभकामनायें।

यदि आपके पास भी कोई ऐसी महिला की बहादुरी की कहानी है तो आप हमें मेल करके भेज सकते है। हम तुरंत उसे आपके नाम के साथ पब्लिस करेंगे।



Related Posts

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस - International Women’s Day 2019 In Hindi
4/ 5
Oleh