जोहान सेबेस्टियन बाच की जीवनी - Johann Sebastian Bach Biography in hindi

जोहान सेबेस्टियन बाच एक जर्मन संगीतकार थे। इनका जन्म 21 मार्च 1685 ओएस में हुआ था। ये एक प्रशिद्ध आर्केनिस्ट थे और पश्चिम के फेमस संगीतकार थे। ये डची में पैदा हुए थे। इनकी मौत 28 जुलाई 1750 में हुई थी। ये बैको अवधि के अंतिम महान संगीत प्रेमी थे।
जोहान सेबेस्टियन बाच

वह मास बिन नाबालिग तथा सेंट मैथ्यू पैशन संगीत के लिए भी जाने जाते थे। हालांकि 19 वी सताब्दी में उन्हे महान संगीतकार का दर्जा मिला और यह दर्जा उन्हें बाच रिवाइकल के बाद ही मिला था।

बैच परिवार पहले ही कई संगीत कार्यों में संलग्न था लेकिन जोहान सेबेस्टियन बाच अंतिम चिराग थे जिन्होंने संगीत को अपनी धरोहर मानकर अपनाया था।


मात्र दस साल की उम्र में ही उनके सर से पिता तथा माता का साया उठ गया था। इसके बाद पांच साल तक इनको अपने बडे भाई का साथ मिला। इसी समय इन्होंने लुनेवर्ग में संगीत का विकास जारी किया था।

जोहान सेबेस्टियन बाच का जीवन परिचय - Johann Sebastian Bach Biography In Hindi


यह एक स्मॉल जर्मन फैमली से बेलांग करते थे और इनका पूरा परिवार संगीत पर ही काम करता था। इनके पिता कई म्यूजिक उपकरणों को चला लेते थे और यह वह उनके टाउन के म्यूजिक डायरेक्टर के रूप में काम करते थे।

जोहान सेबेस्टियन बाख के पिता का निधन उनकी दस वर्ष के उम्र में हो गया था। इनके बडे भाई भी म्यूजीसियन थे। मुख्य रूप से अपने जीवनकाल के दौरान एक असाधारण जीवन के रूप में जीने के लिए जाने वाले बाच ने यह भी समझा कि कैसे म्यूजिक के जटिल आंतरिक तंत्र का निर्माण और मरम्मत करना है (जो आज के  डूडल में दर्शाए गए हैं)।


संगीत को एक लम्बी गति से संगीतबद्ध करना (कभी-कभी प्रति सप्ताह एक कैंटटा की दर से!) वे बखूबी जानते थे।  बाच एक विनम्र व्यक्ति था जिसने अपनी सफलता का श्रेय दिव्य प्रेरणा और एक सख्त कार्य  व नैतिकता को दिया। वह उस समय केवल अपने कुछ मुट्ठी भर प्रकाशित कार्यों को ही देखता था। लेकिन पांडुलिपि के रूप में बचे बाकी पेज जो कि 1,000 से अधिक थे अब दुनिया भर में प्रकाशित और निष्पादित किए जाते हैं।

19 वीं शताब्दी के बाद "बाच रेविवल" की तुलना में बाच की प्रतिष्ठा बढ़ गई क्योंकि उसने संगीत जगत के चार-भाग सद्भाव, कुंजी के संशोधन और काउंटरपॉइंट और फ्यूग्यू की महारत से नई सराहना प्राप्त की थी। शायद उनकी विरासत का सबसे अच्छा माप यह है कि अन्य कलाकारों पर उनका प्रभाव है और वह शास्त्रीय से लेकर समकालीन तक सदियों से है।

 संगीतकार बाच के संगीत से बहुत प्रभावित थे। वायेजर 2 की गहन अंतरिक्ष जांच शुरू होने के बाद वैज्ञानिक और लेखक लुईस थॉमस ने सुझाव दिया कि मानव जाति ने अपने संगीत को सौर मंडल की सबसे बाहरी पहुंच तक प्रसारित किया है। 

तो जोहान सेबेस्टियन बाच की जीवनी - Johann Sebastian Bach Biography in hindi आपको कैसी लगी? कमेंट में जरूर बतायें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ