Advertisement

वसंत विषुव क्या है - Spring equinox In Hindi

विषुव शब्द का अर्थ ऐसे समय से लिया गया है जिसमें दिन और रात का समय बराबर होता है। यानी दिन और रात एक समान होते है। यह अंग्रेजी भाषा के एक्वीनॉक्स से बना है जिसको तोडने पर एक्वी का मतलब 'समान' से है और नॉस का मतलब रात है। वैसे विषुव शब्द संस्कृत से लिया गया है।
वसंत विषुव

पृथ्वी जब सूर्य का चक्कर लगाती है तो वह 23-1/2 का कोड बनाते हुए घूमती है। यानी जब वह सूर्य के चारो ओर घूम रही होती है तो वह कभी सूर्य के आगे की ओर झुकी दिखती है को कभी पीछे लेकिन जब ये झुकाव न तो सूर्य के आगे न हो या न ही पीछे बल्कि बीच पर हो तो ऐसी स्थिति विषुव कहलाती है। ऐसा साल में दो बार होता है।

दो तिथियों में दिन और रात एक समान प्रतीत होते है। यह भूमध्य रेखा से कुछ दूरी पर खडे व्यक्तियों को समान प्रतीत होते है। ग्रेगियन कैलेंडर की माने तो सूर्य उत्तरी गोलार्द्ध पर जनवरी मे तथा साउथ में दिसम्बर में जाता है। हालांकि भारतीय कैलेंडर में इनकी तिथियां अलग हो सकती है लेकिन पूरे विश्व में सूरज दो बार भूमध्य रेखा पर जरूर जाता है। यह तारीख 20  से 23 मार्च के बीच की कोई हो सकती है।

ग्रेगोरी कैलेंडर मे यह 21 मार्च को माना जाता है।

वसंत विषुव की परिभाषा अर्थात वसंत विषुव क्या है -

इसे महा वसंत विषुव के नाम से भी जाना जाता है जब यह दिन मार्च के महीने में आता है। ऐसा समय रेखा या बिन्दु जिसमें दिन और रात का समय दोनो एक समान होते है उसे विषुव कहते है।

इस समय सूर्य भूमध्य रेखा को चीर कर निकल जाता है। लेकिन जब यही दिन सितम्बर में आता है तो उसे जल या शरद विषुव बोलते है।

अंतरराष्ट्रीय समयों मे बदलाव होने की वजह से सभी देशों की तारीखे भिन्न हो सकती है लेकिन यह बदलाव सभी जगह दिखेगा। यूरोप तथा अमेरिका में यह फासला लगभग दो दिन का होता है। इसी दिन के बाद कुछ देशों में छह महीने के लिए अंधेरी राते हो जाती है।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ